श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुर सुधार बरनौ रघुवर बिमल जसु, जो दायक फल चारि बुद्धिहीन तनु जानि के, सुमिरौ पवन कुमार बल…